प्राचीन भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण फैक्ट्स


प्राचीन भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण फैक्ट्स

Advertisements

प्राचीन भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण फैक्ट्स – भारत एक विविधताओं से भरा हुआ देश है भारत का इतिहास जितना प्राचीन है, उतना विविध भी है इसमें हजारों राजा महाराजाओं और अनेक धर्मों की व्याख्या है । भारत का इतिहास बनता बिगड़ता रहा है भारत में आजादी के बाद से आर्थिक प्रकृति की है और एक आधुनिकता की ओर बढ़ा है ।
प्राचीन भारतीय इतिहास के तथ्य

लेकिन भारत का अपना इतिहास अपनी संस्कृति आज भी मौजूद है । भारत अनेक संस्कृतियों और धर्मों का संगम रहा है आज हम बात कर रहे है प्राचीन भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण फैक्ट्स के बारे में जो शायद आप नहीं जानते होंगे:-

प्राचीन भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण फैक्ट्स


1 . विश्व का प्रथम विश्वविद्यालय तक्षशिला भारत में स्थापित किया गया था इसमें 60 से ज्यादा विषयो के विश्व में 10500 छात्र दुनियाभर से आकर भारत में अध्ययन करते थे इसको चौथी शताब्दी में स्थापित किया इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि भारत शिक्षा के क्षेत्र में पहले कितना आगे रहा होगा ।

2. क्या आप जानते हैं 17 शताब्दी से पहले भारत कितना संपन्न देश था क्रिस्टोफर कोलंबस भारत की सम्पनता से बहुत आकर्षित हुआ और उसने आकर्षित होकर भारत खोजने की योजना बनाई लेकिन उसने गलती से अमेरिका खोज ली ।

3. प्राचीन भारतीय खगोल शास्त्री भास्करा चार्य ने पृथ्वी कितने चक्कर लगाती है ,सूर्य की ओर और उसमें कितना समय लगता है इसकी गणना बहुत पहले ही कर ली थी उनकी गणना के अनुसार सूर्य की परिक्रमा पृथ्वी 365.258756484 दिन में पूरा करती है।

4. भारत में इस्लाम धर्म की तीन लाख से ज्यादा मस्जिद है जो किसी भी दूसरे देशो से तुलना की जाए तो बहुत अधिक है और मुस्लिम देशों से तुलना की जाए तो उनसे भी बहुत अधिक है।

Advertisements

5. आज से 5000 साल पहले जब कोई भी दूसरे देशों की सभ्यता और संस्कृति में उनके पास तकनीक नहीं थी और वो विकसित नहीं हुई तब भारत में सिंधु घाटी सभ्यता मौजूद थी।जिसने भवन निर्माण और हस्तशिल्प के साथ पैसो का आदान प्रदान, व्यापार और अन्य चीजें भी होती थी जो विश्व भर में आज प्रसिद्ध है ।

6. भारतीय गणितज्ञ बुधायन द्वारा ‘पाई’ का मूल्‍य ज्ञात किया और उन्‍होंने जिस संकल्‍पना को समझाया उसे पाइथागोरस का प्रमेय कहते हैं। उन्‍होंने इसकी खोज यूरोपीय गणितज्ञों से काफी पहले कर दी गई और यह खोज छठवीं शताब्दी में की गई ।

7. आपको पता है भारत में 4 धर्मों का जन्म हुआ है इनमे हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म, और सिख धर्म शामिल है, जो दुनिया की 25% जनसंख्या इसका पालन करती है इसके आलावा अरुणाचल प्रदेश का दोन्यी पोलो धर्म भी भारत का ही है जबकि जैन धर्म और बौद्ध धर्म की स्थापना लगभग समकालीन समय मैं हुई बौद्ध धर्म की स्थापना 500 ईसा पूर्व और जैन धर्म स्थापना 600 इसा पूर्व हुई।

8. भारत में दुनिया का सबसे पुराना चर्च मौजूद है और यह तमिलनाडु राज्य के कोचीन शहर में है इसका निर्माण 1503 किया गया।

Read also hindifreedom.com/interesting-fact/671/ब्रम्हाण्ड-से-जुड़े-50-रोचक-त/(opens in a new tab)

9. क्या आपको पता है आज जो सांप सीढ़ी खेल रहे हैं उसकी शुरुआत भी भारत में हुई है । यह तेहरवी शताब्दी में कवि ज्ञान देव द्वारा तैयार किया गया था इस खेल को अच्छे कर्म और बुरे कर्म के रूप में दर्शाया गया था । मान्यता थी कि अच्छे कामों में सीढ़िया ऊपर की ओर ले जाती है और बुरे काम सांप हमें नीचे की ओर धकेल देते हैं| इस खेल को कोड़ी और पासे के साथ खेला जाता था ।

Advertisements

10.बीज गणित, त्रिकोण मिति और कलन का आविष्कार भी भारत में हुआ था। चतुष्‍पद समीकरण का उपयोग 11वीं शताब्‍दी में श्री धराचार्य द्वारा कर दिया गया ग्रीक तथा रोमनों द्वारा उपयोग की जाने वाली सबसे बड़ी संख्‍या 106 थी जबकि हिन्‍दुओं ने 10*53 जितने बड़े अंकों का उपयोग के साथ विशिष्‍ट नाम 5000 बीसी के दौरान किया।

11, सुश्रुत को दुनिया में शल्‍य चिकित्‍सा का जनक माना जाता है।जो चिकित्सा विज्ञान आज कर रहा है वो लगभग 2600 वर्ष पहले सुश्रुत ने मोतियाबिंद, कृत्रिम अंगों को लगना, शल्‍य क्रिया द्वारा प्रसव, अस्थिभंग जोड़ना, मूत्राशय की पथरी, प्‍लास्टिक सर्जरी और मस्तिष्‍क की शल्‍य क्रियाएं अधिक आविष्कार कर दिया था इससे हम समझ सकते है कि भारत पहले चिकित्सा के क्षेत्र में कितना आगे था ।

12. युद्ध कला का विकास भारत में ही हुआ था यह कला बौद्ध धर्म प्रचारकों द्वारा पुरे एशिया मैं इसका प्रचार किया गया और योग कला भी भारत से निकली है और यह 5000 साल से भी पुरानी है ।

13 .क्या आप जानते है भास्कराचार्य ने खगोलविद स्मार्ट से सैंकड़ो साल पहले पृथ्वी द्वारा सूर्य की परिक्रमा में लगने वाले समय की गणना कर दी थी |जो पृथ्वी द्वारा सूर्य की परिक्रमा में लगने वाला समय 5 वी सताब्दी में 365 .258756484 था |

14 . गंगा नदी के तट पर स्थित पवित्र शहर बनारस के बारे में ऐसा कहा जाता है कि यह 3000 साल पुराना है। हिंदू कथाओं में ऐसा माना जाता है की इसे भगवान शिव ने 5000 साल पहले खोजा था।और भगवान बुध ने 500 ईसा वर्ष पूर्व में इसका दौरा किया था

  1. सिंधु घाटी सभ्यता को 10 वी सताब्दी ईसा पूर्व में जस्ता अयस्क द्वारा जस्ता निष्कर्सन की प्रकिया का ज्ञान था | वे आसवन की प्रकिया का उपयोग करके जस्ता निकलने के तरीके जानते थे |

16 .पाई के मूल्य की गणना सबसे पहले बुद्धायन द्वारा की गयी थी, उन्होंने इस अवधारणा की व्याख्या की जिसे पाइथागोरियन प्रमेय के नाम से जानते है उन्होंने युरोपियन गणितज्ञों से बहुत पहले 6 वी शताब्दी में इसकी खोज कर ली थी |

Advertisements

17. नेविगेशन की कला 6000 साल पहले सिंधु नदी में शुरू हुई थी बहुत शब्द नेविगेशन संस्कृत शब्द नवगति से लिया गया है | नौसेना शब्द भी संस्कृत शब्द नौ से लिया गया है |

18. स्थान मूल्य प्रणाली , दशमलव प्रणाली का भारत में 100 ईसा वर्ष पूर्व में विकसित की गयी थी

19 . नंबर सिस्टम का अविष्कार भारत में किया गया था | शून्य का आविष्कार आर्यभट द्वारा किया गया था |

read also hindifreedom.com/interesting-fact/564/पृथ्वी-से-जुड़े-50-रोचक-तथ्य/(opens in a new tab)

20 . वास्को डी गामा की मुलाकात कान्हा नामक गुजराती से हुई थी वह एक गुजराती व्यापारी था जिसने वास्को डी गामा के जहाज से 12 बार जहाज उड़ाया था इस कहानी का जिक्र वास्को डी गामा ने अपनी पत्रिका में किया था जो अब लिस्बन में मौजूद है |’

प्राचीन भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण फैक्ट्स

  1. क्या आपको पता है सिंधु घाटी के प्राचीन भारतीय सबसे पहले बटन और स्टेप वेल बनाया करते है |
Advertisements

22 . परमाणु सिद्धांत प्राचीन भारत में आचार्य कणाद ने विकसित किया था | जिन्होंने सबसे पहले अनु परमाणु के बारे में बात की थी इसकी बात 2600 साल पहले की गयी थी |

  1. सिंचाई के लिए सबसे पहले जलाशय का निर्माण बांध सौराष्ट्र में किया गया था |

24 .150 ईस्वी के शक राजा रुद्रदामन प्रथम ने चन्द्रगुप्त मौर्य के समय रायवटक की पहाड़ियों पर सुदर्शन नामक एक झील का निर्माण किया था |

25 .आज हम जिसे न्यूटन के नियम से जानते है प्राचीन भारत में यह न्यूटन से 1200 साल पहले ही विकसित हो गया | हिन्दू खगोलशास्त्री भास्कराचार्य के अनुसार ” पृथ्वी पर आकर्षण बल के कारण वस्तुए गिरती है इसलिए पृथ्वी , गृह , चन्द्रमा ,नक्छत्र ,सूर्य , इस आकर्षण के कारण इस कक्षा में मौजूद है ” |

26 ज्यामिति में भी भारतीय गणितज्ञों का योगदान था रेखागणित नामक गणितीय अनुप्रयोगों का एक छेत्र था | शुलवा सूत्र , जिसका अर्थ “नियम का नियम” विधयो और मंदिरो के निर्माण को ज्यातिमीय तरीके देते है | मंदिरो के लेआउट को मंडल कहा जाता है |इसमें महत्वपूर्ण कार्य आपस्तम्ब , बौद्धयान , हिरयंकेशिन , मनवा , वराह ,और वदुला द्वारा किया गया था |

Read also hindifreedom.com/interesting-fact/609/मानव-शरीर-से-जुड़े-100-रोचक-तथ्/(opens in a new tab)

Advertisements

आज आपने मेरी इस पोस्ट प्राचीन भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण फैक्ट्स से जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी हांसिल की है | उम्मीद है की आपको मेरा यह पोस्ट पसंद आया होगा और इस विषय से जुडी जानकारी आपको सही जानकारी मिली अंत: आपको मेरी यह पोस्ट कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताये

Advertisements

मेरा नाम दीपक डागा है में अरुणाचल प्रदेश में रहता हु में पार्ट टाइम ब्लोग्गर हु मेरा ब्लॉग hindifreedom.com को मैंने 24 may 2020 start किया था मेरा ब्लॉग को बनाने का मुख्य उद्देश्य पाठको को हिंदी भाषा में ज्यादा से ज्यादा वैल्युएबल जानकारी उपलब्ध कराना है मुझे नार्थ ईस्ट इंडिया की संस्कृति से काफी लगाव है इसलिए में वहा की कल्चर से जुडी जानकारी शेयर करना पसंद करता हु | आपको कोई मदद की जरुरत हो तो नीचे कमेंट जरूर करे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *